Latest Articles

चालीसा

श्री सूर्य चालीसा

॥दोहा॥ कनक बदन कुण्डल मकर, मुक्ता माला अङ्ग, पद्मासन स्थित ध्याइए, शंख चक्र के सङ्ग॥ ॥चौपाई॥ जय सविता जय जयति दिवाकर!, सहस्त्रांशु! सप्ताश्व तिमिरहर॥ भानु! पतंग! मरीची! भास्कर!, सविता हंस! सुनूर...

महाभारत

गांधारी को ऐसे हुए 101 संतानें, जानें रहस्य

भगवान वेदव्यास द्वारा रचित महाभारत के किस्से से हम सभी वाकिफ हैं। महाभारत के किस्से में सम्पूर्ण धर्म, दर्शन, समाज, संस्कृति, युद्ध और ज्ञान-विज्ञान की बहुत सी बातें देखने, पढ़ने व सुनने को...

सपने का फल

सपने में छिपकली देखने का क्या है मतलब?

दोस्तों यह हम सभी जानते हैं कि सपने हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग हैं। जान लें कि कुछ सपने हमारी रोजमर्रा जीवन के आस पास ही घूमती रहती है, तो वहीं कुछ सपने हमें आने वाले जीवन के बारें में आभास भी...

धर्म ज्ञान

श्रीकृष्ण के इन 51 नामों का जाप आपको देगा बड़ा लाभ

भगवद्गीता में इस बात का साफ ज़िक्र है कि भगवान श्रीकृष्ण वह समस्त पदार्थों के बीज हैं। यूं तो चर तथा अचर जीव के कई प्रकार हैं… जहां पक्षी, पशु, मनुष्य तथा अन्य सजीव प्राणी चर हैं, तो वहीं...

वास्तु टिप्स

वास्तु टिप्स: कौन सी चीजें कहां और कैसे रखें

घर एक मंदिर के समान होता है… जहां पूरा परिवार एक दूसरे के साथ बहुत प्यार से रहता है। वहीं, कुछ घरों में हमेशा तनाव, क्लेश, लड़ाई-झगड़ा होता रहता है। क्या आप जानते हैं कि घरों में ही इन...

आरतियाँ

श्री राधा जी की आरती व आरती का महत्व और नियम

श्री राधा जी की आरती व आरती का महत्व और नियम ॐ जय श्री राधा जय श्री कृष्ण ॐ जय श्री राधा जय श्री कृष्ण श्री राधा कृष्णाय नमः .. घूम घुमारो घामर सोहे जय श्री राधा पट पीताम्बर मुनि मन मोहे जय श्री...

धार्मिक स्थल

एक ऐसा मंदिर जहां मरने के बाद आत्माओं के देना पड़ता है हाजिरी

बात अगर पौराणिक ग्रंथों की करें, तो हमारी इस सृष्टि यानि कि पूरी दुनिया के रचियता भगवान विष्णु है। यूं तो सृष्टि की उत्पत्ति करने वाले भगवान विष्णु को हर कोई याद करता है और उनकी पूजा-पाठ भी...

चालीसा

श्री लक्ष्मी चालीसा, जाने पूरे अर्थ के साथ

श्री लक्ष्मी चालीसा (अर्थ के साथ) ॥दोहा॥ मातु लक्ष्मी करि कृपा, करो हृदय में वास। मनोकामना सिद्ध करि, परुवहु मेरी आस॥ अर्थ: हे मां लक्ष्मी दया करके मेरे हृद्य में वास करो हे मां मेरी मनोकामनाओं...

हिन्दू पर्व

छठ पूजा विधि 2018, जानें नियम और खास मंत्र

भगवान सूर्य देव को सम्पूर्ण रूप से समर्पित खास त्योहार कहलाता है छठ। यह पर्व पूरी स्वच्छता के साथ मनाया जाता है और इस व्रत को पुरुष और स्त्री दोनों ही सामान रूप से धारण करते हैं। यह पावन पर्व...

आरतियाँ

श्री हनुमानजी की आरती

मनोजवं मारुत तुल्यवेगं ,जितेन्द्रियं,बुद्धिमतां वरिष्ठम् || वातात्मजं वानरयुथ मुख्यं , श्रीरामदुतं शरणम प्रपद्धे || आरती किजे हनुमान लला की | दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥ जाके बल से गिरवर काँपे |...