Latest Articles

आरतियाँ

श्री संतोषी माता की आरती व आरती का महत्व और नियम

श्री संतोषी माता आरती व आरती का महत्व और नियम जय संतोषी माता, मैया जय संतोषी माता । अपने सेवक जन को, सुख संपति दाता ॥ जय सुंदर चीर सुनहरी, मां धारण कीन्हो । हीरा पन्ना दमके, तन श्रृंगार लीन्हो...

ज्योतिष टोटके

आपकी यह 9 गलतियां बना देगी हमेशा के लिए कंगाल!

इस भागती ज़िंदगी में पैसों की अहमियत क्या है यह हम सभी जानते हैं, आखीर लोग इस एक चीज़ यानी कि पैसों के लिए ही तो दौड़-भाग करते नज़र आते हैं। यूं तो लोग अपने जीवन मेहनत करने से पीछे नहीं हटते हैं...

हिन्दू पर्व

अगहन पूर्णिमा क्या है… जानें कैसे मिलेगा धन लाभ!

हर साल अगहन की शनि पूर्णिमा आती है और इस खास दिन पूर्णिमा का चांद वृषभ राशि में रहता है, जिसे श्री दत्तात्रेय जयंती के नाम से लोग जानते हैं। बता दें कि अगहन पूर्णिमा पर ब्रह्मा, विष्णु और महेश...

हिन्दू पर्व

वैकुंठ एकादशी का क्या है महत्व, जानें पूजा विधि!

यह बहुत कम लोग जानते हैं कि कुंठ एकादशी को ही वैकुंठ एकादशी, मोक्षदा एकादशी और गीता जयंती भी कहकर पुकारा जाता है। वैकुंठ एकादशी को मार्गशीर्ष मास में शुक्लपक्ष की एकादशी के दिन मनाया जाता है।...

चालीसा

श्री सरस्वती चालीसा

॥दोहा॥ जनक जननि पद्मरज, निज मस्तक पर धरि। बन्दौं मातु सरस्वती, बुद्धि बल दे दातारि॥ पूर्ण जगत में व्याप्त तव, महिमा अमित अनंतु। दुष्जनों के पाप को, मातु तु ही अब हन्तु॥ ॥चालीसा॥ जय श्री सकल...

चालीसा

विष्णु जी की चालीसा

।।दोहा।। विष्णु सुनिए विनय सेवक की चितलाय । कीरत कुछ वर्णन करूं दीजै ज्ञान बताय ॥ ।।चौपाई।। नमो विष्णु भगवान खरारी,कष्ट नशावन अखिल बिहारी । प्रबल जगत में शक्ति तुम्हारी,त्रिभुवन फैल रही...

हिन्दू पर्व

धनु खरमास क्यों माना जाता है अशुभ, रखें इन बातों का ध्यान

क्या आप जानते हैं कि सूर्य का किसी राशि में प्रवेश होना संक्रांति कहलाता है और जब सूर्य धनु राशि में प्रवेश करता है, तो इसे ही धनु संक्रांति कहा जाता है। बता दें कि धनु राशि बृहस्पति की आग्नेय...

ज्योतिष राशिफल

राशि अनुसार जानें घर में धन रखने की सही जगह!

यह हम सभी जानते हैं कि एक सुखमय जीवन जीने के लिए बहुत ज़रूरी होता है पैसा यानी कि धन… पैसों के साथ-साथ बेहद जरूरी है कि आपकी बरकत भी हमेशा बनी रहे। आज वेद संसार आपको बताने जा रहा है कि आपको अपनी...

आरतियाँ

श्री श्यामबाबा की आरती व आरती का महत्व और नियम

श्री श्यामबाबा की आरती व आरती का महत्व और नियम ॐ जय श्री श्याम हरे , बाबा जय श्री श्याम हरे | खाटू धाम विराजत, अनुपम रुप धरे ॥ ॐ जय श्री श्याम हरे…. रत्न जड़ित सिंहासन, सिर पर चंवर ढुले| तन केशरिया...

शास्त्र हस्तरेखा

होने वाली दुल्हन क्या आपके लिए सौभाग्यशाली है?

इन दिनों शादी का मौसम शुरू हो चुका है… ऐसे में हर कोई अपने लिए एक सही पार्टनर की तलाश में जुट गया है। आपको जो पसंद आए यह ज़रूरी नहीं कि वह आपके लिए भाग्यशाली शाबित हो, तो ऐसे में सबसे बड़ा सवाल...