धर्म ज्ञान वास्तु टिप्स

नाग पूजा क्या है तथा कैसे करें सांपों की पूजा

नाग पूजा क्या है तथा कैसे करें सांपों की पूजा

अगर आप सनातन परंपरा के बारे में जानते हैं, तो यह बात ज़रूर जानते होंगे कि सर्प देवता की पूजा लोग श्रद्धा व विश्वास के साथ करते हैं। बता दें कि सर्प (सांप) भगवान शिव के गले में हार और भगवान विष्णु की शैय्या समेत कई देवी-देवताओं से किसी न किसी रूप में जुड़े हुए हैं।

वहीं, नाग पूजा की बात करें तो हमारे हिंदू धर्म में यहां अनन्त, वासुकी, तक्षक कर्कोटक, महापद्म, नील, शंखपाल, कुलिक, कालिया नाग की पूजा भी खास बताई गई है।

नाग पूजा क्या है?

हमारे देश में सर्प खासकर के नागों के प्रति लोगों का बहुत आस्था और सम्मान जुड़ा हुआ है और इसलिए हिंदू नाग पूजा करते हैं। यही नहीं, देश के तमाम मंदिरों में भी नागदेवता की विशेष रूप से प्रतिमा स्थापित की गई है और लोग उनकी पूजा सच्चे मन के साथ करते हैं। वहीं, दूसरी ओर नागालैंड के नागा लोग तो अपने को नागों की संतान ही बताते हैं।

नाग पूजा से करें इन तीन दोषों को दूर और शुभ फलों की प्राप्ति  –

• नाग पूजन दूर करें वास्तु दोष

ध्यान रहें कि अगर आप किसी खाली जमीन पर मकान का निर्माण करने जा रहे हैं, तो सबसे पहले भूमि की पूजा करें। वहीं, भूमि के इस खास पूजा में चांदी के नाग और कलश की पूजा होती है। यही नहीं, जमीन से भी जुड़े वास्तु दोष को दूर करने के लिए की जाने वाली इस पूजा के पीछे मान्यता यह है कि भूमि के नीचे पाताल लोक है, जिसके स्वामी भगवान विष्णु के सेवक शेषनाग ही हैं।

शेषनाग ने ही अपने फन पर पृथ्वी को उठाकर रखा हुआ है। ऐसे में मकान का निर्माण करने से पहले नींव पूजा में चांदी के सांप की पूजा कर भगवान शेषनाग की कृपा पाने की कामना की जाती है ताकि भगवान शेषनाग उस बनाए जाने वाले मकान को उसी प्रकार संभालकर कर रखें, जिस प्रकार पृथ्वी को संभालकर रखा हुआ है।

• नागपूजा दूर करें कालसर्प दोष

 

 

अकसर आपने नोटिस किया होगा कि काफी मेहनत करने के बावजुद हमें अपनी मेहनत का फल नहीं मिल पाता है और साथ ही दूसरों की सच्चे मन से मदद करने पर बदले में सिर्फ बुराई ही मिलती है और मुसीबत के समय में वह अपने साथ छोड़ जाते हैं… तो जान लें कि यह सब संकेत आपकी कुंडली में कालसर्प दोष के हो सकते हैं। आपको अगर इस बात की जानकारी मिल जाए कि आपकी कुंडली में कालसर्प दोष है तो आप चांदी के नाग-नागिन का जोड़ा बनवाकर और उनका विधि-विधान से पूजा अवश्य करें।

साथ ही पूजा हो जाने के बाद चांदी के इस नाग-नागिन के जोड़े को बहते जल में याद से प्रवाहित कर दें। इस खास उपाय से आप कालसर्प दोष के दुष्प्रभाव को दूर कर सकते हैं। यही नहीं, हर सोमवार को भगवान शिव के मंदिर में जाकर नाग देवता जलाभिषेक करने से आपका कालसर्प दोष आसानी से समाप्त हो जाता है।

• सर्प भय को दूर भगाएं

आपको सांप से डर लगता है या फिर सपने में अक्सर आपको सांप दिखाई देते हैं, तो आपको विधि-विधान से सांप की पूजा करनी बहुत ज़रूरी है। खासकर के नागपंचमी के दिन जरूर नाग की पूजा करें। कहते हैं ऐसा करने से आपके सांपों को लेकर होने वाले भय दूर हो जाएंगे और साथ ही सांपों से जुड़े सपने भी आने बंद हो जाएंगे।

Leave a Comment