ज्योतिष हस्तरेखा

हथेली की इन खास रेखाओं से जानें विदेश यात्रा आप कर सकेंगे या नहीं!

हथेली की इन खास रेखाओं से जानें विदेश यात्रा आप कर सकेंगे या नहीं

कई लोगों का विदेश यात्रा पर जाना, विदेश में जॉब करना सपना रहता है, लेकिन बहुत मेहनत करने पर भी यह चाह कभी पूरी नहीं हो पाती है। कभी सोचा है कि आखिर ऐसा क्यों होता है?

दोस्तों सपने हम सभी देखते हैं, लेकिन क्या वह हकीकत में तब्दील हो सकती है या नहीं यह जानना बहुत मुश्किल हो जाता है। आज आपको एक खास उपाय बताने जा रहे हैं, जिसकी मदद से आप पहले ही जान सकते हैं कि आप विदेश यात्रा कर पाएंगे या नहीं।

बता दें कि हमारे हाथों की लकीरें विदेश यात्राओं के योग को साफ दर्शा सकती है। क्या आप जानते हैं कि किसी भी यात्राओं के लिए चंद्र ग्रह व साथ ही चंद्र पर्वत का मुख्य योगदान माना जाता है। वहीं, हमारे पुराने ज्योतिष और हस्त सामुद्रिक शास्त्र में चंद्र को समुद्री यात्रा या फिर जल का कारक माना गया है। आज इक्कीसवीं सदी में भी इस धारणा को उतना ही महत्व दिया जाता है।

हथेली की रेखाओं का महत्व

हथेली की रेखाओं का महत्व

मन का कारक चंद्रमा को माना गया है। वहीं, अकसर यह देखने को मिलता है कि अगर हमारी हथेली में चंद्रमा की स्थिति अच्छी नहीं है तो व्यक्ति हमेशा विचलित सा रहता है। यही नहीं, उस व्यक्ति के मन में उथल पुथल सी लगी ही रहती है।

गौरतलब है कि चंद्रमा बदलाव भी देता है और ऐसा व्यक्ति कोई भी कार्य टिककर नहीं कर पाता हैं, क्योंकि वह जल्दी ऊब जाता है। जान लें कि हथेली में विदेश यात्रा का योग देखने के लिए चंद्र पर्वत का महत्व सबसे ज्यादा होता है।

आज वेद संसार आपको बताने जा रहा है कि आपकी हथेली में कौन सी ऐसी रेखाएं हैं जो यह बताएंगी कि आप विदेश यात्रा पर जा सकते हैं या नहीं –

• अगर आपकी हथेली पर चंद्र पर्वत विकसित है और साथ ही अन्य रेखाएं शुभ हैं, तो व्यक्ति की विदेश जाने की इच्छा ज़रूर पूरी होती है।

• हालांकि, हथेली पर दोष युक्त चंद्र पर्वत और रेखाएं इच्छापूर्ति में बाधक बनकर ऊभरती हैं। बता दें कि चंद्र पर्वत पर छोटी-छोटी रेखाएं छोटी और कम लंबी यात्राएं भी बताती हैं। यह यात्राएं देश व विदेश दोनो में हो सकती हैं।

• कलाई से चंद्र पर्वत पर जाने वाली रेखाएं जो हैं, वह विदेश यात्रा के बारे में साफ बताती हैं।

हस्तरेखाएं जो बताए – विदेश से धन का योग

अगर आपकी हथेली में मत्स्य यानि कि मछली का चिन्ह मौजूद है तो विदेश से धन मिलता है व साथ ही चन्द्र पर्वत पर मत्स्य का चिन्ह विदेश से आय बताता है।

हस्तरेखाएं जो बताए – विदेश में नौकरी का योग

हस्तरेखाएं जो बताए - विदेश में नौकरी का योग

दूसरी ओर जीवन रेखा से निकलने वाली लाइन अगर चन्द्र पर्वत की ओर जाती हो, तो व्यक्ति विदेश में व्यापार या फिर नौकरी करता है, लेकिन वह लौटकर अपने देश वापस आ जाता है।

यही नहीं, यात्रा रेखा में चतुष्कोण हो, तो भी व्यक्ति विदेश में जा कर बसता है। अगर यही रेखाएं निर्दोष एवं लंबी हो तो उसकी विदेश से आजीविका कमाने की लालसा ज़रूर पूरी होती है। बताते चलें कि दोषपूर्ण रेखाएं अड़चने एवं परेशानियां बताती हैं।

Leave a Comment