हिन्दू पर्व

वैकुंठ एकादशी का क्या है महत्व, जानें पूजा विधि!

वैकुंठ एकादशी का क्या है महत्व

यह बहुत कम लोग जानते हैं कि कुंठ एकादशी को ही वैकुंठ एकादशी, मोक्षदा एकादशी और गीता जयंती भी कहकर पुकारा जाता है। वैकुंठ एकादशी को मार्गशीर्ष मास में शुक्लपक्ष की एकादशी के दिन मनाया जाता है। मान्यता यह है कि इस खास एकादशी के दिन व्रत करने से आपके सारे पाप नाश हो जाता है और आपको मोक्ष की भी प्राप्ति होती है। यही नहीं, ऐसे जातकों को मरणोपरांत वैकुंठ में भी स्थान मिलता है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इसी एकादशी के दिन भगवान श्री कृष्ण ने कुरुक्षेत्र में अर्जुन को श्रीमद्भगवदगीता का उपदेश भी दिया था और इसलिए इस दिन को गीता जयंती के रूप में भी मनाया जाता है।

वैकुंठ एकादशी का क्या है महत्व –

कहते हैं कि मनुष्य को मोक्ष की प्राप्ति आसानी से कभी नहीं होती है और इसी वजह से इंसान को धरती पर बार-बार जन्म लेकर आना पड़ता है। देखा जाए तो लोगों के बीच में यह भी मान्यता देखने व सुनने को मिलती है कि मोक्षदा एकादशी करने वाले मनुष्य को मोक्ष प्राप्त तो होता ही है और साथ ही उसके लिए वैकुंठ का द्वार भी खुला रहता है।

व्रत व पूजा विधि –

बता दें कि मोक्षदा एकादशी या वैकुंठ एकादशी के दिन भगवान विष्णु के पूजा को महत्व दिया गया है। इस खास व्रत का नियम एक दिन पहले ही शुरू हो जाता है। इस पूजा के ठीक एक दिन पहले सात्विक भोजन करने का नियम होता है। याद रखें कि सोने से पहले भगवान विष्णु का स्मरण जरूर करें।

चलिए विस्तार से जानते हैं कि इस एकादशी की पूजा और व्रत की विधि क्या है –

• सबसे पहले आपको सुबह उठकर नहाना होगा और फिर साफ-सुथरे कपड़े पहनकर अपने पूरे घर में गंगाजल का छिड़काव ज़रूर करें।

• अब जब आपने गंगा जल का छिड़काव कर लिया है, तो उसके बाद भगवान विष्णु की पूजा याद से करें। पूजा में तुलसी पत्ता का इस्तेमाल करना ना भूलें।

• वहीं, रात में भी भगवान विष्णु की पूजा याद से करें और कथा का पाठ भी करें।

• कोशिश करें कि रात में भजन-कीर्तन ज़रूर आप करें और सच्चे मन से भगवान को याद करें।

• कहते हैं कि इस खास दिन गीता पाठ का आरंभ करना बहुत ही शुभ होता है, इसलिए ज़रूर गीता का पाठ करें और फिर देखें चमत्कार।

दोस्तों, हम आशा करते हैं कि आपको आज यह वैकुंठ एकादशी की पूरी जानकारी मिल गई होगी और आप इसे अब और अच्छे से मनाने का प्रयास करेंगे ताकि आपकी सारी मनोकामनाएं पूरी हो जाएं और आप एक खुशहाल ज़िंदगी की ओर अपना कदम बढ़ाएं।

यूं तो कई एकादशी होती है लेकिन वैकुंठ एकादशी का अपना एक अलग महत्व होता है, जिसे आपके लिए जानना बहुत ज़रूरी था और इसलिए वेद संसार ने इस विशेष एकादशी की जानकारी आपको देने की सोची और हमें लगता है कि हमारी यानी कि वेद संसार की यह अनोखी कोशिश काफी हद तक सफल भी हुई।

Leave a Comment