ईवेंट हिन्दू पर्व

कोई इच्छा है अधूरी… तो इस माघ महीने कर लें पूरी!

माघ महीने में अपनी कोई इच्छा पूरी करनी है

माघ का महीना हिंदू धर्म में बहुत ज्यादा ही शुभ व फलदायी माना जाता है। इस खास महीने से ही सारे शुभ मांगलिक उत्सव शुरू हो जाते हैं और मलमास खत्म हो जाता है। बता दें कि माघ के महीने में खासकर के स्नान, दान, उपवास और तप का विशेष महत्व माना जाता है। यही नहीं, इस महीने से ही पूरे भारत में मुख्य तीर्थ स्थलों पर धार्मिक मेलों का आयोजन होता है, जैसे – प्रयागराज हरिद्वार आदि।

दरअसल, मान्यता यह है कि माघ महीने में दिया हुआ दान अक्षय फल प्रदान करता है और आपकी सारी मनोकामनाओं को पूरा करने वाला भी होता है।

  • माघ महीने में करें यह दिव्य उपाय, मन की इच्छा हो जाएगी पूरी –
  • माघ के शुभ महीने में रोजाना सूर्य उदय होने से पहले ही उठें।
  • वहीं, अपने नहाने के पानी में दो बूंद गंगाजल जरूर मिला लें और हल्के रंग के कपड़े पहना करें।
  • कोशिश करें कि एक पटरे को पूर्व दिशा में रखकर पीले रंग का सवा मीटर कपड़ा बिछा लें।
  • अब आप भगवान विष्णु की प्रतिमा या फिर चित्र को रख दें और उनके सामने धूप व दीप को जलाएं और कलश भी भरकर रखें।
    साथ ही रोली, मोली, चावल, फल व सुगंधित और ताजे फूल से पूजा करें।
  • यही नहीं, सफेद चंदन की माला से ॐ नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का 5 माला जाप भी याद से करें। बता दें कि ऐसा करने से आपके मन की सारी इच्छा पूरी हो जाएगी।

गौरतलब है कि अगर आप किसी से प्रेम करते हैं और उससे विवाह करना चाहते हैं, लेकिन किसी कारणवस बाधाएं आ रही हो तो शुभ माघ महीने में वेद संसार द्वारा बताए गए दिव्य उपाय को करें। आपके प्रेम विवाह में आ रही बाधा जल्दी दूर हो जाएगी –

  • सबसे पहले एक चौकोर भोजपत्र ले लें। अब उस पर अपने मन की इच्छा लाल चंदन से लिखें और उसे कलावे से बांध दें।
  • इसके बाद आप अपने कुल गुरु देवी देवता का ध्यान ज़रूर करें और यह भोजपत्र फल-फूल मिष्ठान के साथ देवी मंदिर में अर्पण कर दें। याद से यह प्रयोग शुक्ल पक्ष की पंचमी या फिर अष्टमी को ही करें।
  • आप जब यह दिव्य प्रयोग कर लेंगे तो उसके बाद मछलियों को 108 आटे की गोलियां अवश्य खिलाएं।

माघ के महीने में सभी रोग दूर करने के खास उपाय

  • माघ के खास महीने में रोज़ सुबह जल्दी उठ जाया करें और स्नान करने के बाद हल्के रंग के ही कपड़े पहनें।
  • आप कच्चे दूध में गंगाजल मिलाकर एक लोटे में भरें और फिर नंगे पैर अपने घर से निकलें।
  • याद से मन ही मन नमः शिवाय नमः शिवाय मंत्र का जाप ज़रूर करें और भगवान शिव के मंदिर पहुंच जाएं।
  • अब आप दूध भगवान शिवलिंग पर अर्पण करें और उनसे अपने रोगों को दूर करने की प्रार्थना भी करें।
  • बताते चलें कि इस उपाय को लगातार 7 दिनों तक करने से आपके मन की सारी इच्छाएं अवश्य पूरी हो जाएंगी और साथ ही साथ आपको सभी रोगों से छुटकारा भी मिल जाएगा।

Leave a Comment