हिन्दू पर्व

कुंभ संक्रांति का क्या है महत्व, जानें इस दिन किन चीज़ों का दान माना जाता है महादान!

हमारे हिंदू धर्म में यूं तो कई त्‍योहारों और पर्वों का उल्‍लेख किया गया है जिसमें कुंभ संक्रांति का बहुत ज्यादा महत्‍व माना गया है। यह खास पर्व फाल्‍गुन कृष्‍ण द्वितीया तिथि को पूरे श्रद्धा-भाव के साथ मनाई जाती है।

वहीं, ज्‍योतिषशास्‍त्र की मानें तो यह संक्रांति इंसान के कई तरह के पापों के प्रायश्चित और नाश करने वाली भी मानी जाती है। कहते हैं कि इस शुभ दिन पर पवित्र नदियों और तालाबों में जाकर स्‍नान करने से पुण्‍य फल की प्राप्‍ति अव्शय होती है। यही नहीं, पुराणों में भी इस दिन को अत्‍यंत महत्‍वपूर्ण बताया गया है।

कुंभ संक्रांति का क्या है महत्‍व –

पूरे सालभर में 12 संक्रांतियां आती हैं और इन सभी तिथियों पर दान-पुण्‍य करने का भी विशेष महत्‍व बताया गया है। गौरतलब है कि इन सभी संक्रांतियों में मकर संक्रांति जो है उसे सबसे ज्‍यादा श्रेष्‍ठ माना जाता है और इसके बाद ही सूर्य-कुंभ संक्रांति को महत्‍वपूर्ण मानते हैं। जो भी व्‍यक्‍ति इस दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठकर सूर्य देव की उपासना करता है और उन्‍हें अर्घ्‍य देता है उसे अपने जीवन के हर क्षेत्र में सफलता की प्राप्‍ति अवश्य होती है। बता दें कि इस खास उपाय से आपके जीवन के अनेक दोषों की समाप्ति हो सकती है।

कुंभ संक्रांति पर दें दान, मिलेगा लाभ –

ध्यान रहें कि कुंभ संक्रांति का मह्तव इतना है कि इस दिन दान-दक्षिणा करने से अंत काल में उत्तम धाम की प्राप्‍ति ज़रूर से होती है। अगर आप इस शुभ दिन बीज मंत्र का जाप करते हैं तो हर मनुष्‍य को अपने दुखों से छुटकारा शीघ्र ही मिल जाता है। बता दें कि कुंभ संक्रांति पर आदित्‍य ह्रदय स्रोत का पाठ भी आप आसानी से कर सकते हैं क्योंकि इस पाठ को करने से सूर्य देव जल्दी प्रसन्‍न हो जाते हैं। याद रखें कि कुंभ संक्रांति के शुभ दिन पर पूरे विधि-विधान से पूजा करने पर उस घर-परिवार में किसी भी सदस्‍य के ऊपर कोई भी मुसीबत या कोई रोग आदि नहीं आती है व साथ ही भगवान आदित्‍य के आशीर्वाद से जीवन के अनेक दोष भी दूर होते चले जाते हैं। यही नहीं, इससे प्रतिष्‍ठा और मान-सम्‍मान में भी वृद्धि होती है।

 कुंभ संक्रांति के दिन करें यह 4 काम

  • इस पवित्र दिन खाद्य वस्‍तुओं, वस्‍त्रों और ब्राह्मणों को दान देने से आपको दोगुना पुण्‍य की प्राप्ति होगी इसलिए दान ज़रूर करें।
  • ऐसी मान्‍यता है कि इस दिन गंगा नदी में स्‍नान करने से मोक्ष की प्राप्‍ति मिलती है तो अगर आप मोक्ष की चाह रखते हैं तो कुंभ संक्रांति के दिन गंगा स्नान ज़रूर करें।
  • गंगा में स्नान अगर आप नहीं कर सकते हैं तो सुख-समृद्धि पाने के लिए मां गंगा का ध्‍यान ज़रूर कर लें।
  • बताते चलें कि अगर आप कुंभ संक्रांति के शुभ अवसर पर गंगा नदी में स्‍नान नहीं कर सकते हैं तो आप यमुना, गोदावरी या फिर अन्‍य किसी भी पवित्र नदी पर जाकर स्‍नान कर पुण्‍य की प्राप्‍ति आसानी से कर सकते हैं।

Leave a Comment