धर्म ज्ञान

शनि की अशुभ छाया से बचने के लिए अपनाए यह खास पूजा-विधि

शनि की अशुभ छाया से बचने के लिए अपनाए यह खास पूजा-विधि

शनिदेव का नाम सुनते ही एक डर… एक भय आपके मन को हमेशा परेशान करता रहता है… यही नहीं, शनिदेव की पूजा में कोई भी गलती माफ नहीं की जाती है, इसलिए भी अकसर मन विचलित रहता है और किसी भी अनिष्ट की आशंका से घबराने लगता है।

शनि को यम, काल, दु:ख, दारिद्रय तथा मंद भी कहा जाता है। किसी भी परेशानी, संकट, दुर्घटना, आर्थिक नुकसान के होने पर लोग यही मान लेते है कि शनि की ही अशुभ छाया पड़ी है। जैसा कि हमने पहले बताया कि शनिदेव की पूजा में गलती से भी की गई गलती माफ नहीं होती है, तो ऐसे में शनिदेव को हमेशा खुश रखने की ही कोशिश करते रहना चाहिए। बता दें कि शनिदेव हमेशा खुश रहें, इसके लिए लोग शनि की पूजा तो करते हैं लेकिन वह शनिदेव की पूजा से जुड़ी कुछ खास बातों पर ध्यान नहीं दे पाते हैं।

दोस्तों शनिदेव की सही पूजा-विधि क्या है यह आपके लिए जानना बहुत ज़रूरी है क्योंकि तभी शनि की कुदृष्टि आप पर नहीं पड़ेगी।

आज वेद संसार आपको बताने जा रहा है कि शनि की पूजा के कुछ खास नियम – 

• लाल रंग का इस्तेमाल ना करें –

कहते हैं कि शनिदेव की पूजा में भूलकर भी कभी लाल रंग के फूल या कोई भी लाल सामाग्री का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। बता दें कि लाल रंग जो है वह मंगल का प्रतीक माना जाता है और मंगल के साथ शनि की गहरी शत्रुता है। कोशिश करें कि शनि की पूजा में आप हमेशा नीले या काले रंग का ही प्रयोग करें।

• शनि की पूजा पश्चिम दिशा में करें –

वहीं, शनिदेव की पूजा में दिशा का भी विशेष महत्व माना जाता है। शायद आप जानते होंगे कि शनि को पश्चिम दिशा का स्वामी माना जाता है और इसलिए भी शनि की पूजा करते समय इस बात का खास ध्यान रखना चाहिए कि आपका मुख पश्चिम दिशा की ओर ही हो।

• शनिदेव की आंखों में ना देखें –

ऐसी मान्यता है कि किसी भी इंसान पर जब शनिदेव की दृष्टि पड़ जाती है तो उसकी परेशानियां पहले से और अधिक बढ़ने लग जाती हैं। जान लें कि ऐसे में कभी भी शनिदेव की मूर्ति के सामने खड़े होकर पूजा नहीं करना चाहिए और पूजा के दौरान भूलकर भी शनिदेव की आंखों में नहीं देखना चाहिए।

• शनिदेव को काला तिल ही चढ़ाएं –

ध्यान रहे कि शनिदेव की पूजा में हमेशा काले तिल और खिचड़ी का ही भोग लगाना शुभ फल प्रदान करता है। यही नहीं, शनिदेव को काला तिल अर्पित करने पर व्यक्ति की कुंडली में मौजूद अशुभ ग्रहों की छाया भी जल्दी दूर हो जाती है।

दोस्तों हम आशा करते हैं कि वेद संसार द्वारा बताए गए शनिदेव की सही पूजा विधि आपको ज़रूर पसंद आई होगी और आप अब जब भी शनिदेव की पूजा करने के लिए सोचेंगे तो हमारे बताए गए खास उपायों को ज़रूर फॉलो करेंगे और एक खुशहाल ज़िंदगी जीएंगे।

Leave a Comment