धर्म ज्ञान

आम्रपाली कौन थी और कैसे उसकी खूबसूरती ने उसे बना डाला वेश्या

आम्रपाली कौन थी और कैसे उसकी खूबसूरती

आज हम जो कहानी आपको बताने जा रहे हैं वह भारतीय इतिहास की सबसे खूबसूरत महिला ‘आम्रपाली’ की है ..जिसे अपनी खूबसूरती की कीमत एक वेश्या बनकर चुकानी पड़ी थी। आम्रपाली किसी की पत्नी तो नहीं बन पाई थी, लेकिन वह संपूर्ण नगर की नगरवधू जरूर बन गई थी। 

हालांकि आम्रपाली ने अपने लिए यह जीवन खुद नहीं चुना था, बल्कि वैशाली में शांति बनाए रखने व गणराज्य की अखंडता बरकरार रखने के लिए उसे किसी एक की पत्नी बनाकर नगर को सौंप दिया गया था। हालांकि उसने कई सालों तक वैशाली के धनवान लोगों का मनोरंजन किया था, लेकिन जब वह तथागत बुद्ध के संपर्क में आई तो सबकुछ छोड़कर बौद्ध भिक्षुणी बन गई थी।

आम्रपाली का जन्म कहां और कैसे हुआ था

आम्रपाली के जैविक माता-पिता का तो पता नहीं, लेकिन जिन लोगों ने उसका पालन किया था उन्हें वह एक आम के पेड़ के नीचे मिली थी… जिसकी वजह से उसका नाम आम्रपाली रखा गया था। आम्रपाली बहुत खूबसूरत थी… उसकी आंखें बड़ी-बड़ी और काया बेहद आकर्षक थी। जो भी उसे देख करता वह अपनी नजरें उस पर से हटा ही नहीं पाता था। गौरतलब है कि उसकी यही खूबसूरती, उसका यही आकर्षण उसके लिए एक श्राप बन गया था।

आम्रपाली एक आम लड़की की तरह ही खुशी-खुशी अपना जीवन जीना चाहती थी, लेकिन उसकी किस्मत ने उसका साथ नहीं दिया। आम्रपाली चाहकर भी कभी अपने दर्द को बयां नहीं कर पाई और अंत में वही हुआ जो उसकी नियति को मंजूर था।

आम्रपाली की सुंदरता कैसे बन गई अभिशाप

आम्रपाली की सुंदरता कैसे बन गई अभिशाप

आम्रपाली जैसे-जैसे बड़ी होती चली गई उसका सौंदर्य भी चरम पर पहुंचता चला गया, जिसकी वजह से वैशाली का हर पुरुष उसे अपनी दुल्हन बनाने के लिए बेताब सा होने लगा। लोगों में आम्रपाली की दीवानगी इस हद तक बढ़ गई थी, की वह उसको पाने के लिए किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार थे और यही सबसे बड़ी समस्या थी।

वहीं, आम्रपाली के माता-पिता जानते थे की आम्रपाली को जिसको भी सौंपा गया तो बाकी के लोग उनके दुश्मन बन जाएंगे और वैशाली में खून की नदिया बहा देंगे और इसीलिए वह किसी भी नतीजे पर नहीं पहुंच पा रहे थे।

आम्रपाली बन गई वेश्या

अपनी इसी समस्या का हल खोजने के लिए एक दिन वैशाली में सभा का आयोजन किया गया। गौरतलब है कि इस सभा में मौजूद सभी पुरुष आम्रपाली से विवाह करना चाहते थे, जिसकी वजह से कोई निर्णय नहीं लिया जा सके और ऐसे में इस समस्या के समाधान हेतु अलग-अलग विचार प्रस्तुत किए गए, लेकिन कोई इस समस्या को सुलझा नहीं पाया और अंत में जो निर्णय लिया गया उसने सबको चौंका दिया व साथ ही आम्रपाली की तकदीर को अंधेरी खाइयों में धकेल दिया।

बता दें कि सर्वसम्मति के साथ आम्रपाली को नगरवधू यानि कि वेश्या घोषित कर दिया गया। ऐसा इसीलिए किया गया क्योंकि सभी जन वैशाली के गणतंत्र को बचाकर रखना चाहते थे। वहीं, अगर आम्रपाली को किसी एक को सौंप दिया जाता तो इससे एकता खंडित हो जाती। नगरवधू बनने के बाद हर कोई उसे पाने के लिए स्वतंत्र था और इस तरह गणतंत्र के एक निर्णय ने उसे भोग्या बनाकर छोड़ दिया था।

Image source – google

Leave a Comment