ईवेंट हिन्दू पर्व

सफला एकादशी क्या है, जानें इसका महत्व!

सफला एकादशी का खास व्रत पौष कृष्ण एकादशी को रखा जाता है। इस उपवास को रखने से ना सिर्फ आपकी आयु बल्कि स्वास्थ्य की भी रक्षा होती है। साथ ही व्यक्ति को अपने कार्यों में सफलता प्राप्त होती है। बता दें कि इस व्रत में श्री हरि की कृपा से व्यक्ति को भौतिक संपन्नता मिलती है।

एकादशी के दिन श्री हरि की उपासना करने की विधि –

– इस दिन सुबह या फिर शाम के समय भगवान श्री हरि की पूजा अवश्य करें।

– याद से अपने मस्तक पर सफ़ेद चन्दन या गोपी चन्दन लगाकर श्री हरि की पूजन करें।

– श्री हरि को पंचामृत , पुष्प और ऋतु फल अर्पित करना ना भूलें।

– अगर आपके लिए मुमकिन हो तो आप एक वेला (समय) उपवास रखें और एक वेला पूर्ण सात्विक आहार ही ग्रहण करें।

– ध्यान रहे कि शाम को आहार ग्रहण करने के पहले जल में दीपदान ज़रूर करें।

– ऐसी मान्यता है कि इस दिन गर्म वस्त्र और अन्न का दान करना बहुत शुभ माना जाता है।

सफला एकादशी पर उत्तम स्वास्थ्य के लिए करें यह उपाय – 

– श्री हरि को मौसम के फल यानी कि ऋतु फल ही अर्पित करें।

– फल को अर्पित करने के बाद पूरे 108 बार “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय” का जाप करें।

– अब आप फल को प्रसाद के रूप में ग्रहण कर लें।

– जान लें कि अगर कोई रोगी व्यक्ति इस फल को ग्रहण करता है तो वह जल्दी ही स्वस्थ हो जाएगा।

सफला एकादशी पर संतान प्राप्ति के लिए करें यह उपाय –

– इस शुभ दिन श्री हरि को पंचामृत चांदी के पात्र में अर्पित करना ना भूलें।

– अब आप पूरे 108 बार “ॐ नमो नारायणाय” का जाप पूरे श्रद्धा के साथ करें।

– पंचामृत को प्रसाद के रूप में ग्रहण करना ना भूलें।

सफला एकादशी पर जानें कि अपनी सुरक्षा और रक्षा के लिए क्या करना चाहिए –

– हर कोई सुरक्षित रहना चाहता है और अपनी सुरक्षा के लिए वह बहुत कुछ कर सकता है। ऐसे में चलिए आपको वेद संसार बताने जा रहा है कि आखीर आप अपनी व अपने परिवार की सुरक्षा कैसे कर सकते हैं।

–  रेशम का एक पीला धागा श्री हरि को अर्पित करें।

– इसके बाद उस धागे को हाथ में लेकर “रां रामाय नमः” का 108 बार जाप करें।

– अब इस जाप के बाद धागे को दाहिने हाथ में बांध लें।

– और अगर आप एक महिला हैं तो इस धागे को बाएं हाथ में बांधें।

तो दोस्तों, इस सफला एकादशी आप भी अगर अपनी मनोकामनाओं को पूरा करना चाहते हैं, तो वेद संसार द्वारा बताए गए खास उपायों को अपनाएं और चमत्कार देखें। बता दें कि हर एकादशी अपने आप में खास होती है ठीक उसी तरह सफला एकादशी भी बहुत खास मानी जाती है।

Leave a Comment