ईवेंट हिन्दू पर्व

राम नवमी 2019 में क्या आया बदलाव और यह बन गया खास!

चैत्र में राम नवमी कब है

चैत्र नवरात्रि पूरे नौ (9) दिनों तक धूमधाम व पूरे श्रद्धा और विश्वास के साथ मनाया जाता है। वहीं, कभी कभी तिथियों में बदलाव के चलते भी नवरात्रि को मनाने के दिन आगे पीछे हो जाते हैं। जहां, राम नवमी कभी आठ दिनों के, तो कभी दस दिनों तक मनाया जाता है। साल 2019 में इस बार भी तिथियों के कुछ बदलाव के चलते नवमी तिथि का व्रत अष्टमी तिथि को, यानी कि 13 तारीख को ही कर लिया जाएगा।
जानें कारण।

ऐसी मान्यता है कि जब नवमी दो तिथियों में हो और पहली तिथि के मध्याह्न में नवमी हो, तो जान लें कि व्रत उसी दिन किया जाना ही उचित माना जाता है। लेकिन हां, ध्यान रहें कि अगर नवमी दोनों दिनों के मध्याह्न में पड़ रही हो, या जब किसी भी दिन मध्याह्न को नवमी ना हो, तो दशमी से युक्त नवमी में ही व्रत करना चाहिए।

राम नवमी कब है, जानें पूजा का सही समय

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस बार राम नवमी की तारीख 13 को दोपहर से पहले ही यानी कि 11:42 पर शुरू हो जाएगी और अगले दिन, यानी कि 14 तारीख को सुबह 09:36 तक राम नवमी रहेगी।

पंडित व आचार्य के अनुसार 13 तारीख को मध्याह्न के समय नवमी तिथि रहेगी, जबकि 14 तारीख को नवमी तिथि सुबह सुबह ही समाप्त हो जायेगी और जैसा कि हमने आपको पहले बताया कि नवरात्र में नवमी का व्रत उसी दिन किया जाता है, जिस दिन नवमी तिथि मध्याह्न के समय हो। इन्ही सब कारणों की वजह से नवमी का व्रत 13 तारीख को ही किया जायेगा और इसी के साथ राम नवमी और राम जन्मोत्सव भी उसी दिन ही मनाया जायेगा, क्योंकि भगवान श्री राम का जन्म भी चैत्र शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को मध्याह्न के समय कर्क लग्न में हुआ था, लेकिन ध्यान रहे कि नवमी तिथि का हवन अगले दिन ही 14 तारीख को किया जायेगा और उसके साथ ही नवरात्रि पूजा भी पूर्ण हो जायेगी।

राम नवमी को बनाए इन उपायों से खास

कहते हैं कि राम नवमी इसलिए मनायी जाती है, क्योंकि भगवान श्री राम का जन्म इसी दिन हुआ था और तो और वह मां दुर्गा के बहुत बड़े भक्त थे। जब पत्नी सीता को बचाने के उपाय उन्हें समझ में नहीं आ रहे थे, तो उन्होंने मां दुर्गा के नवरात्रि का व्रत और पूजा किया था और उनके कृपा से उन्हें ना सिर्फ उनकी पत्नी सीता वापस मिली बल्कि रावण को भी मात दी।

याद रखें कि यह बहुत शुभ माना जाता है जब आप मां दुर्गा और भगवान राम की पूजा साथ में करते हैं। ऐसा करने से आपकी हर अधुरी मनोकामनाएं पूरी हो जाएंगी और आप एक खुशहाल जीवन जीएंगे। तो फिर देरी किस बात की… इस खास राम नवमी से ही शुरुआत कर दें। भगवान राम और मां दुर्गा की जाप करना ना भूलें।

Leave a Comment