ईवेंट हिन्दू पर्व

मोहिनी एकादशी क्या है… जानें इसका महत्व!

मोहिनी एकादशी क्या है

मोहिनी एकादशी का व्रत अपने आप में बहुत खास माना जाता है। इस व्रत को करके व्यक्ति में आकर्षण और बुद्धि तो बढ़ती ही है, साथ ही व्यक्ति बहुत ज्यादा प्रसिद्धि भी पाता है।

मोहिनी एकादशी क्या है –

बता दें कि वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को ही मोहिनी एकादशी भी कहकर पुकारा जाता है। ऐसी मान्यता है कि इसी खास दिन भगवान श्री हरि विष्णु ने समुद्र मंथन से निकले अमृत कलश को दानवों से बचाने के लिए मोहिनी रूप धारण किया था।

मोहिनी एकादशी पर कैसे पाएं बच्चें के लिए बुद्धि का वरदान –

अगर आप अपने बच्चे की बुद्धि का विकास चाहते हैं, तो इस शुभ दिन यानी कि मोहिनी एकादशी पर भगवान विष्णु की पीले फल, फूल और मीठाई से उनकी सच्चे मन से पूजा और अर्चना करें। साथ ही 11 केले और शुद्ध केसर भगवान विष्णु को याद से अर्पण करें। वहीं, एक आसन पर बैठकर ॐ नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का 108 बार जाप भी करें। इस जाप के बाद केले का फल छोटे बच्चों में बाट दें और केसर का तिलक याद से बच्चों के माथे पर लगाएं।

मोहिनी एकादशी पर कैसे बढ़ाएं अपना आकर्षण –

मोहिनी एकादशी के खास दिन सुबह जल्दी उठ जाएंं और स्नान करके साफ कपड़े पहन लें। अब अपने दाएं हाथ से पीले फल-फूल नारायण भगवान को अर्पण करें और गाय के घी का दीया ज़रूर जलाएं। अब आप किसी आसन पर बैठकर नारायण स्तोत्र का तीन बार ज़रूर पाठ करें। इस बात का खास ध्यान रखें कि एकादशी के दिन से लगातार 21 दिन तक नारायण स्तोत्र का पाठ अवश्य करें।

मोहिनी एकादशी पर करना ना भूलें यह महाउपाय –

हम सभी एक खुशहाल जीवन जीने की चाह रखते हैं और अगर आप भी यह चाहते हैं, तो मोहिनी एकादशी के दिन सुबह के समय ही जल में हल्दी डालकर स्नान याद से करें। यही नहीं, अपनी उम्र के बराबर हल्दी की साबुत गांठ पीले फलों के साथ भगवान विष्णु के मंदिर में अर्पण करें और साथ ही विष्णु सहस्त्र नाम का पाठ करना ना भूलें। अब जब आपकी पाठ खत्म हो जाए, तो उसके बाद फलों को जरूरतमंद लोगों में बाट दें। ध्यान से हल्दी की गांठों को कपड़े में लपेटकर धन रखने के स्थान पर रखना ना भूलें।

हम आशा करते हैं कि वेद संसार द्वारा बताए गए इन खास उपायों को आप ज़रूर फॉलो करेंगे और सुखी जीवन का आनंद उठाएंगे। आपकी जानकारी के लए बता दें कि इस वर्ष यानी कि 2019 में मोहिनी एकादशी 15 मई को है। हालांकि भगवान विष्णु का दिन गुरुवार को माना जाता है, लेकिन बुधवार को यह एकादशी है। अगर आपके बच्चे हैं औऱ आप उनके पढ़ाई को लेकर काफी चिंतित हैं, तो इश एकादशी का व्रत ज़रूर करें भगवान हरि आप पर उपकार ज़रूर से करेंगे और आपका बच्चा पहले से ज्यादा तेज़ दिमाग पाएगा।

वहीं, अगर आप अपना आकर्षण बढ़ाना चाहते हैं, तो भी आप इस व्रत को रख सकते हैं और कामयाबी जल्दी हासिल कर सकते हैं।

Leave a Comment