ईवेंट हिन्दू पर्व

मार्गशीर्ष अमावस्या क्या है, जानें इसका महत्व

हर माह की पूर्णिमा और अमावस्या को कोई न कोई पर्व या फिर त्योहार ज़रूर मनाया जाता है, ताकि इन दिनों व्यक्तियों का ध्यान धर्म की ओर हमेशा से लगा रहे। यूं तो पूर्णिमा और अमावस्या कई तरह के हैं और उनके महत्व भी अलग-अलग होते हैं। लोगों के लिए यह बहुत मुश्किल है कि वह हर समस्या के बारे में याद रखें, लेकिन कुछ अहम दिन होते हैं जिन्हें याद रखने से अपना ही भला हो सकता है।

आज वेद संसार आपको एक खास अमावस्या के बारे में बताने जा रहा है मार्गशीर्ष अमावस्या। इस अमावस्या के बारे में जानकर आपको खुशी ज़रूर होगी कि यह एक अकेली अमावस्या इतनी फायदेमंद आपके लिए कैसे हो सकती है।

मार्गशीर्ष अमावस्या क्या है?

मार्गशीर्ष महीने के कृष्ण पक्ष की अमावस्या को मार्गशीर्ष अमावस्या कहा जाता हैं। इसे अगहन और पितृ अमावस्या भी कहा जाता है। बता दें कि अगहन महीने की अमावस्या का महत्व कार्तिक मास में पड़ने वाली अमावस्या से कम नहीं है।

यह खास माह माता लक्ष्मी को बहुत प्रिय माना गया है इसलिए लक्ष्मी पूजन का विशेष महत्व भी होता है। ऐसी मान्यता है कि अगहन मास की अमावस्या पर लक्ष्मी पूजा और साथ ही व्रत करने से आपके सारे पापों का नाश हो सकता है।

मार्गशीर्ष अमावस्या का महत्व

• आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मार्गशीर्ष अमावस्या को पितरों की पूजा करने का भी विशेष दिन माना गया है। मान्यता यह है कि इस खास दिन पूजन और व्रत करने से पितर प्रसन्न होते हैं और आपकी पितृ दोष भी दूर हो जाती है।

• यही नहीं, मार्गशीर्ष अमावस्या का यह खास व्रत करने से कुंडली के सारे दोष भी दूर हो जाते हैं।

• ध्यान रहें कि इस अमावस्या को गंगा स्नान का भी विशेष महत्व बताया गया है।

• याद रखें कि अगर किसी की कुण्डली में पितृ दोष मौजूद है या फिर कोई संतान हीन योग बन रहा हो, तो उन्हें ज़रूर से इस मार्गशीर्ष अमावस्या का व्रत करना चाहिए।

• कहते हैं कि अगहन माह में ही भगवान कृष्ण ने गीता का दिव्य ज्ञान दिया था, जिसके कारण से इस माह की अमावस्या यानि कि मार्गशीर्ष अमावस्या को बहुत ही लाभकारी और पुण्य फलदायी माना जाता है।

मार्गशीर्ष अमावस्या के दिन रखें इन बातों का ध्यान

अगर आप भी मार्गशीर्ष अमावस्या का व्रत रख रहे हैं, तो इस बात का खास ध्यान रखें कि आप इस दिन मां लक्ष्मी का निरादर ना करें, अब चाहे वह भोजन हो या फिर पैसा। कोशिश करें कि इस दिन आप जितना दान कर सकें उतना किसी गरीब को दान अवश्य करें और उन्हें भोजन भी कराएं।

याद रखें इस अमावस्या में आप जितनी गरीबों से दुआएं पाएंगे, उतना ही आप भगवान के करीब जाएंगे और आपकी हर मनोकामना पूरी होगी।

दोस्तों, हम आशा करते हैं कि मार्गशीर्ष अमावस्या का महत्व जान आप सारी बातों का ख्याल रखेंगे और अपने परिवार के बीच भी इस जानकारी को बताएंगे ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस खास अमावस्या का लाभ उठा पाएं और एक खुशहाल ज़िंदगी जीएंगे।

Leave a Comment