आरतियाँ

सीता जी की आरती व आरती का महत्व और नियम

सीता जी की आरती व आरती का महत्व और नियम

सीता जी की आरती व आरती का महत्व और नियम

सीता बिराजथि मिथिलाधाम सब मिलिकय करियनु आरती।
संगहि सुशोभित लछुमन-राम सब मिलिकय करियनु आरती।।

विपदा विनाशिनि सुखदा चराचर,सीता धिया बनि अयली सुनयना घर
मिथिला के महिमा महान…सब मिलिकय करियनु आरती।।सीता बिराजथि…

सीता सर्वेश्वरि ममता सरोवर,बायाँ कमल कर दायाँ अभय वर
सौम्या सकल गुणधाम…..सब मिलिकय करियनु आरती।। सीता बिराजथि…

रामप्रिया सर्वमंगल दायिनि,सीता सकल जगती दुःखहारिणि
करथिन सभक कल्याण…सब मिलिकय करियनु आरती।। सीता बिराजथि…

सीतारामक जोड़ी अतिभावन,नैहर सासुर कयलनि पावन
सेवक छथि हनुमान…सब मिलिकय करियनु आरती।।सीता बिराजथि…

ममतामयी माता सीता पुनीता,संतन हेतु सीता सदिखन सुनीता
धरणी-सुता सबठाम…सब मिलिकय करियनु आरती ।। सीता बिराजथि…

शुक्ल नवमी तिथि वैशाख मासे,’चंद्रमणि’ सीता उत्सव हुलासे
पायब सकल सुखधाम…सब मिलिकय करियनु आरती।।

सीता बिराजथि मिथिलाधाम सब मिलिकय करियनु आरती।।।

यहां जानें – आरती का महत्व व नियम

आरती को “आरार्तिक’ और “नीरंजन” भी कहा जाता है। ध्यान रहें कि आरती के दौरान अगर आप मंत्रों का उच्चारण करते हैं तो यह आपके लिए और भी अच्छा होगा लेकिन अगर ना भी करें, तो शुद्ध मन से दीपक या कपूर के साथ की गई आरती भी आपकी मनोकामना को सिद्ध कर सकती है।

आरती में शंख और बाती का महत्व

वहीं, जब भी आप आरती करें उसमें घंटी और शंख का वादन अवश्य शामिल करें। बता दें कि इससे जहां आपके आस-पास का वातावरण शुद्ध होता है वहीं, आपके घर की सभी प्रकार की नकारात्मक ऊर्जा इन पवित्र ध्वनियों की गूंज से बाहर निकल जाएगी। साथ ही आपकी प्रार्थना बिना किसी बाधा के भगवान तक पहुंचती है।

यही नहीं, दीपों या बातियों की संख्या को लेकर भी ध्यान अवश्य रखें कि यह एक, पांच या फिर सात के क्रम में ही हो। वहीं, अगर आप आरती के लिए कपूर का प्रयोग कर रहे हो तो उसमें भी यही नियम लागू होगा।

आरती के पांच अंग –

क्या आप जानते हैं कि आरती के पांच अंग माने गए हैं – पहला दीपक, दूसरा शुद्ध जल या गंगाजल युक्त शंख, तीसरा स्वच्छ वस्त्र, चौथा आम या फिर पीपल के पवित्र पत्ते और पांचवा दंडवत प्रणाम करना।

दोस्तों आरती चाहे प्रात:काल की हो या फिर संध्याकालीन, या किसी विशेष पूजा की आरती ही क्यों ना हो… उसमें इन पांचों विधियों का क्रमानुसार पालन अवश्य किया जाना चाहिए।

आरती में शंख के जल का महत्व –

ध्यान रहें कि शंख में रखे जल को आरती में उपस्थित सभी लोगों पर छिड़काव अवश्य से करें क्योंकि इससे उन्हें पूजा का पूरा फल प्राप्त होता है और जीवन की परेशानियां भी समाप्त हो जाती हैं।

आरती में दीप घुमाने का नियम –

हम सब जब आरती करते हैं, तब दीप ज़रूर घुमाते हैं लेकिन क्या कभी आपने यह जानने की कोशिश की है कि आखिर दीप घुमाने का क्या है नियम… कितनी संख्या होनी चाहिए दीप घुमाने वक्त… आरती शुरु करते हुए सर्वप्रथम इसे भगवान के चरणों में चार बार, तत्पश्चात नाभि के पास दो बार घुमाते हुए मुखमंडल पर दीपक ले जाएं और फिर वहां एक बार घुमाएं। इसके पश्चात समस्त अंगों पर कम से कम सात बार या इससे अधिक आरती घुमाएं।

Leave a Comment