Latest Articles

ईवेंट राशिफल

कैसा रहेगा 2019 में आपका स्वास्थ्य, जानें राशि अनुसार

इंसान चाहे कितना भी पैसा कमा लें वह उन पैसों का आनंद तब तक नहीं उठा सकता जब तक की वह पूरी तरह स्वस्थ ना हो। जी हां, सबसे अमीर इंसान वही होता है जिसे कोई बीमारी ना हो… वह जो चाहे खा सकता है, पहन...

चालीसा

मां काली चालीसा

॥॥दोहा ॥॥ जयकाली कलिमलहरण, महिमा अगम अपार महिष मर्दिनी कालिका, देहु अभय अपार ॥ अरि मद मान मिटावन हारी । मुण्डमाल गल सोहत प्यारी ॥ अष्टभुजी सुखदायक माता । दुष्टदलन जग में विख्याता ॥1॥ भाल...

चालीसा

श्री राधा चालीसा

।।दोहा।। श्री राधे वुषभानुजा , भक्तनि प्राणाधार । वृन्दाविपिन विहारिणी , प्रानावौ बारम्बार ।। जैसो तैसो रावरौ, कृष्ण प्रिय सुखधाम । चरण शरण निज दीजिये सुन्दर सुखद ललाम ।। ।।चौपाई।। जय...

धर्म ज्ञान

योग क्या है तथा इसकी क्यों है आवश्यकता

योग जीवन में एक खास महत्व रखता है, जिससे इंसान स्वस्थ, खुश और टेंशन फ्री लाइफ जीता है। बता दें कि योगासन हमारे शरीर और मन को स्वस्थ रखने की प्राचीन भारतीय प्रणाली है और वहीं, शरीर को किसी ऐसे आसन...

चालीसा

चामुण्डा देवी की चालीसा

दोहा नीलवरण मा कालिका रहती सदा प्रचंड । दस हाथो मई ससत्रा धार देती दुस्त को दांड्ड़  ।। मधु केटभ संहार कर करी धर्म की जीत । मेरी भी बढ़ा हरो हो जो कर्म पुनीत  ।। चौपाई नमस्कार चामुंडा माता ।...

आरतियाँ

चामुण्डा देवी की आरती

जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी। निशिदिन तुमको ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवजी॥ जय अम्बे माँग सिन्दूर विराजत, टीको, मृगमद को। उज्जवल से दोउ नयना, चन्द्रबदन नीको॥ जय अम्बे कनक समान कलेवर...

आरतियाँ

श्री संतोषी माता की आरती व आरती का महत्व और नियम

श्री संतोषी माता आरती व आरती का महत्व और नियम जय संतोषी माता, मैया जय संतोषी माता । अपने सेवक जन को, सुख संपति दाता ॥ जय सुंदर चीर सुनहरी, मां धारण कीन्हो । हीरा पन्ना दमके, तन श्रृंगार लीन्हो...

ज्योतिष टोटके

आपकी यह 9 गलतियां बना देगी हमेशा के लिए कंगाल!

इस भागती ज़िंदगी में पैसों की अहमियत क्या है यह हम सभी जानते हैं, आखीर लोग इस एक चीज़ यानी कि पैसों के लिए ही तो दौड़-भाग करते नज़र आते हैं। यूं तो लोग अपने जीवन मेहनत करने से पीछे नहीं हटते हैं...

ईवेंट हिन्दू पर्व

अगहन पूर्णिमा क्या है… जानें कैसे मिलेगा धन लाभ!

हर साल अगहन की शनि पूर्णिमा आती है और इस खास दिन पूर्णिमा का चांद वृषभ राशि में रहता है, जिसे श्री दत्तात्रेय जयंती के नाम से लोग जानते हैं। बता दें कि अगहन पूर्णिमा पर ब्रह्मा, विष्णु और महेश...

ईवेंट हिन्दू पर्व

वैकुंठ एकादशी का क्या है महत्व, जानें पूजा विधि!

यह बहुत कम लोग जानते हैं कि कुंठ एकादशी को ही वैकुंठ एकादशी, मोक्षदा एकादशी और गीता जयंती भी कहकर पुकारा जाता है। वैकुंठ एकादशी को मार्गशीर्ष मास में शुक्लपक्ष की एकादशी के दिन मनाया जाता है।...